Loading...
You are here:  Home  >  India  >  History  >  Current Article

Salute to Ram Prasad Bismil on his Birth Anniversary.

By   /  June 12, 2012  /  No Comments

    Print       Email

Ram_Prasad_Bismil

On 11-June-2012, we salute Amar Shahid Ram Prasad Bismil on his Birth Anniversary, the great revolutionary and one of the founding members of Hindustan Republican Assocation.

Bismil Saheb, your life and deeds will continue to inspire us.

Vande Maataram !

 

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है जोर कितना बाजुए कातिल में है ।

करता नहीं क्यों दुसरा कुछ बातचीत,
देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफिल मैं है ।

रहबर राहे मौहब्बत रह न जाना राह में
लज्जत-ऐ-सेहरा नवर्दी दूरिये-मंजिल में है ।

यों खड़ा मौकतल में कातिल कह रहा है बार-बार
क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसी के दिल में है ।

ऐ शहीदे-मुल्को-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार
अब तेरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफिल में है ।

वक्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमां,
हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में है ।

खींच कर लाई है सब को कत्ल होने की उम्मींद,
आशिकों का जमघट आज कूंचे-ऐ-कातिल में है ।

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है जोर कितना बाजुए कातिल में है ।

    Print       Email

About the author

An IT Professional based in Pune, India. A Traveler, Photographer and Blogger. Self Proclaimed Middle of the Right.

  • Subscribe to Us via Email

  • Posts by Day

    June 2012
    M T W T F S S
    « Nov   Jul »
     123
    45678910
    11121314151617
    18192021222324
    252627282930  
  • Recent Posts

  • Categories

  • Archives

You might also like...

तो आप पद्मावती से आहत हैं?

Read More →